There was an error in this gadget

Friday, 13 January 2012

बेबशी सूर्य की ...

मैं सूर्य, मैं रवि, मैं ही प्रभाकर..
मुझे पूजते तुम सुबह शाम निरंतर
पर क्या किसी ने मेरा दर्द जाना है ?

फ़िक्र नहीं जलता रहता हूँ,
हर आँगन की रौशनी  के लिए...

पर रो रहे हैं जो मेरे अपने,
अँधेरे बंद कमरों में बैठ के


उनके दरवाजे खिड़कियाँ
खुलवा नहीं सकता ...


उनके जीवन में ..
उजाला ला नहीं सकता ..


जल जायेंगे वो मुझसे
मैं पास जा नहीं सकता...

कैसी बेबशी है मेरी !!
अपनों की ख़ुशी छोड़ो
गम का भी साँझा प़ा नहीं सकता ...




नोट: साँझा - हिस्सा 

Sunday, 8 January 2012

दो कदम .....

दो कदम और जो हम साथ जाते
तो पल-पल मिलने की इच्छा को यूं ना दबाते ..
सही-गलत की उलझन से हम परे रह जाते
दो कदम और जो हम साथ जाते..

रूठ जाते जो तुम..
बाहों में भर गले हम लगाते,
यूं दूर-दूर से न तुमको मनाते
दो कदम और जो हम साथ जाते..

सपनों और अरमानों की झिलमिल सी दुनिया
संग मिल कर उसे,
हक़ीक़त में  सजाते
दो कदम और जो हम साथ जाते......





तुझे कितना प्यार किया ..

ऐ काश.. कोई एक माप होती,
जो बोल पाती की ..
दिल की गहराई क्या है
आंसुओं में दर्द कितना ..
और भावनाओं की ऊँचाई क्या है

उन गुलाबों की पंखुरियों में,
अभी भी प्यार की महक कितनी ..
और बस एक आवाज़ सुनने को,
मन की चहक  क्या है

कितनी हिम्मत लगती है,
उसकी डोली सजाने में - 2
क्या गुज़रती है...
आंशुओं की धार छुपाने में
बंद आँखों में नींद नहीं,
करवट बदल बस रात बिताने में

तो शायद  मैं  ये बता पाता
तुझे कितना प्यार किया .... -2